कालेजों की परीक्षाएं इस बार भी आनलाइन

निर्देश जारी: कोरोना की तीसरी लहर की आशंका बताते हुए लिया फैसला राज्य के सभी निजी व सरकारी कालेजों और विश्वविद्यालयों की वार्षिक सेमेस्टर परीक्षाएं इस बार भी आनलाइन (ब्लैंडेड मोड) होंगी। इसे लेकर उच्च शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिया है।



इस मामले में उच्च शिक्षा विभाग ने तर्क दिया है कि विश्वविद्यालयों में 50 से 60 दिन के भीतर परीक्षाएं होनी हैं। ऐसे में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए छोटी-सी चूक के भी गंभीर परिणाम हो सकते हैं। लिहाजा इस बार भी विश्वविद्यालयों-कालेजों में आनलाइन ही परीक्षाएं ली जाएं। 

इसमें प्रदेश के 14 राजकीय और नौ निजी विश्वविद्यालयों समेत 574 कालेजों में अध्ययनरत पांच लाख से अधिक विद्यार्थी शामिल होंगे।

प्रदेश के विश्वविद्यालयों व कालेजों की मुख्य परीक्षाएं आनलाइन (ब्लैंडेड मोड) कराए जाने का निर्णय लिया गया है। व्यवस्था के संबंध में आगामी गाइडलाइन विश्वविद्यालयों द्वारा जारी की जाएगी। -डा. समरेंद्र सिंह उपसचिव, उच्च शिक्षा विभाग बता दें कि कोरोनाकाल में ज्यादातर विश्वविद्यालयों व कालेजों में आनलाइन ही पढ़ाई हुई हैं। 

क्या है ब्लैंडेड मोड

परीक्षा को आनलाइन आफलाइन दोनों तरीके से एक साथ करने की प्रक्रिया को ब्लैंडेड मोड कहा जाता है। इसमें विश्वविद्यालयों द्वारा परीक्षार्थियों को आनलाइन मेल, वाट्सएप आदि के जरिए प्रश्नपत्र भेजा जाता है। परीक्षार्थी निर्धारित समय के भीतर प्रश्नपत्र को उत्तरपुस्तिका में हल करने के बाद अपने-अपने परीक्षा केंद्रों में जमा करते हैं। कोरोनाकाल में आनलाइन शिक्षा की व्यवस्था के चलते पिछले दो वर्षों से लगातार इसी मोड पर परीक्षाएं कराई जा रही हैं।

मांग कर रहे थे कि परीक्षाएं आनलाइन ही हों। एनएसयूआइ के छात्र नेता इसे लेकर मुख्यमंत्री से भी मिले थे।

Active Study Educational WhatsApp Group Link in India
Share-

Copyright © रोजगार सहायता: Rojgar Sahayta